Saturday, October 14, 2017



Two-thirds of Rashtriya Swayamsevak Sangh's branches runs in villages and one-third in the cities. Since almost 60 percent of the society lives in the village in India, under present circumstances there are many challenges before the rural environment. Therefore, RSS All India Executive Council Meet, emphasized on the need to do more work in the villages through Shakas. There is a great challenge of social harmony in the village. Despite the availability of communication media, there is a lack of accurate and useful information in rural areas. An effort should be made to bring the right information and the right perspective in the village. On the concluding day of the meeting of the All India Executive Board, the Sarkaryavya of the Sangh, Shri Suresh Bhaiyaji Joshi, while briefing the reporters, informed about the major decisions taken during a three-day meeting during the three-day meeting. On this occasion, All India Prachar Pramukh Dr. Manamohan Vaidya was also present.
Sarkaryavya Shri Bhaiyaji Joshi said that with ideas and discussions made in ABKM and work plan has been designed towards Gram Vikas and Kutumba Prabodhan. For the past few years, the farmers are battling many questions and the Sangh feels that we should work towards making the farmer a self-reliant. Understanding the questions of the farmers, the government should formulate a favorable policy. The ABKM meet also discussed the issues of agriculture. The Sangh will endeavor that farmers return to organic farming. The Sangh has made some plans in this direction. He told that the farmers need to become economically viable too. For this, the government should make a policy that farmers can get fair price for their crops. He said that to work in the field of village development, the Sangh will connect the people of 30-35 age group with them.
Shri Bhaiyaji Joshi told that the Sangh has taken up the task of strengthening the family system through Kutumba Prabodhan. Family plays an important role in shaping a person. If the children are imparted with good Sanskar ​​and values ​​of life, then their development is fine. The Sangh volunteers are working towards creating a family centred with society awareness. Through Sangh work, around 20 lakh families are connected. According to an estimate, twenty five crore people have come in contact with Sangh. To create a positive environment in society, there is a need to enhance the work of family awareness. He told that in the meeting of the All India Executive Board, the subjects which have been considered will be given final shape in the National Council Meet in March.

Shri Bhaiyaji Joshi, the Chief Minister said in a reply to a question that Rohingya is a serious question. It should be considered why are they being expelled from Myanmar? Myanmar also seems to have limitations from other countries, but why were Rohingya Muslims not allowed in those countries? It should also be seen that Rohingya who came in the past which are the areas have they settled in India. They chose Jammu and Kashmir and Hyderabad to live their life. From the behaviour of those Rohingyas who have come to India till date, does not seem that they have come here to take shelter. Government should form a policy in granting shelter to refugees, fixing place and duration, arrangements for the refugees to return etc. He said that India has always welcomed the refugees. But, those who are being sheltered should first look at their background. There is also a limit to consider as humanity. He said that the people who are supporting Rohingya Muslims, also need to see and understand their background.
In response to a question asked about Ram temple, Shri Bhaiyaji Joshi said that the Sangh wanted that all obstacles should be resolved first and then Ram Mandir would be built. The government should endeavor to end the barriers. At present, preparations for construction of Ram Mandir are going on in Karsewakpuram, as soon as obstacles are resolved, the temple construction will start. Regarding reservation, he said that reservation should be kept till the fulfillment of that purpose by Baba Saheb, Dr. Bhimrao Ambedkar has arranged for reservation for the purpose. He said that the society receiving reservation should decide how long it needs reservation. 

ग्राम विकास एवं कुटुंब प्रबोधन के कार्यों को गति देगा संघ

भोपाल, 14 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दो तिहाई शाखाएं गांव में और एक तिहाई नगरों में चलती हैं। चूँकि भारत में लगभग 60 प्रतिशत समाज गांव में बसता है। वर्तमान परिस्थितियों में ग्रामीण परिवेश के समक्ष अनेक प्रकार की चुनौतियां हैं। इसलिए संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में शाखाओं के माध्यम से गांवों में और अधिक कार्य करने की आवश्यकता पर बल दिया गया। गांव में समरसता की बड़ी चुनौती है। संचार माध्यमों की उपलब्धता के बाद भी ग्रामीण क्षेत्र में सही और उपयोगी जानकारियों का अभाव है। गांव में सही जानकारी और सही दृष्टिकोण पहुंचाने का प्रयास किया जाना चाहिए। अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के समापन अवसर पर संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश भैय्याजी जोशी ने पत्रकारों से संवाद के दौरान तीन दिवसीय बैठक में लिए गए प्रमुख निर्णयों की जानकारी देते हुए यह बताया। इस अवसर पर अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य भी उपस्थित रहे।
                सरकार्यवाह श्री भैय्याजी जोशी ने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में ग्राम विकास और कुटुंब प्रबोधन के विषय में विचार-विमर्श कर कार्य योजना बनाई गई है। पिछले कुछ समय से गांव और किसान अनेक प्रश्नों से जूझ रहे हैं। संघ का विचार है कि किसान को स्वावलंबी बनाने की दिशा में कार्य किया जाना चाहिए। किसानों के प्रश्नों को समझकर उनके अनुकूल नीति सरकार को बनानी चाहिए। बैठक में कृषि के संबंध में भी विचार किया गया है। संघ प्रयास करेगा कि किसान जैविक खेती की ओर लौटें। संघ ने इस दिशा में कुछ योजना बनाई है। उन्होंने बताया कि किसानों को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने की आवश्यकता है। इसके लिए सरकार को नीति बनानी चाहिए कि किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य मिल सके। उन्होंने बताया कि ग्राम विकास के क्षेत्र में कार्य करने के लिए संघ 30-35 आयुवर्ग के व्यक्तियों को अपने साथ जोड़ेगा।
                श्री भैय्याजी जोशी ने बताया कि परिवार व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए संघ ने कुटुंब प्रबोधन का काम अपने हाथ में लिया है। व्यक्ति के निर्माण में उसके परिवार की भूमिका बहुत महत्त्वपूर्ण है। बच्चों को संस्कार और जीवनदृष्टि परिवार से मिले तो उनका विकास ठीक प्रकार होता है। परिवार समाज जागरण का केंद्र बनें, इसके लिए संघ के स्वयंसेवक कार्य कर रहे हैं। संघ कार्य के माध्यम से लगभग 20 लाख परिवारों तक पहुंचा है। एक अनुमान के अनुसार सवा करोड़ लोग संघ के संपर्क में आए हैं। समाज में सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए कुटुंब प्रबोधन के कार्य को बढ़ाने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में जिन विषयों पर विचार किया गया है, मार्च में होने वाली प्रतिनिधि सभा की बैठक में उन्हें अंतिम स्वरूप दिया जाएगा।
                सरकार्यवाह श्री भैय्याजी जोशी ने एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि रोहिंग्या गंभीर प्रश्न है। यह विचार करना चाहिए कि आखिर म्यांमार से उन्हें निष्कासित क्यों किया जा रहा है? म्यांमार से अन्य देशों की सीमाएं भी लगती हैं, परंतु उन देशों में रोहिंग्या मुसलमानों को प्रवेश क्यों नहीं दिया गया? यह भी देखना होगा कि पूर्व में आए रोहिंग्या भारत में किन क्षेत्रों में बसे हैं? उन्होंने अपने रहने के लिए जम्मू-कश्मीर और हैदराबाद को चुना है। जो रोहिंग्या अब तक भारत आए हैं, उनके व्यवहार से यह नहीं लगता कि वह यहाँ शरण लेने के लिए आए हैं। शरणार्थियों के संबंध में सरकार को नीति बनानी चाहिए, जिसमें उनको शरण देने की नीति, स्थान और अवधि तय हो। एक कालावधि के बाद शरणार्थियों को वापस भेजने की व्यवस्था बने। उन्होंने कहा कि भारत ने सदैव शरणार्थियों का स्वागत किया है। परंतु, जिनको शरण दी जा रही है, पहले उनकी पृष्ठभूमि को देखना चाहिए। मानवता के नाते विचार करने की भी एक सीमा होती है। उन्होंने इस बात को प्रमुखता से कहा कि जो लोग रोहिंग्या मुसलमानों का समर्थन कर रहे हैं, उनकी पृष्ठभूमि भी देखने और समझने की आवश्यकता है।
                राम मंदिर के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में श्री भैय्याजी जोशी ने कहा कि संघ चाहता है कि पहले समस्त बाधाएं समाप्त हों, फिर राम मंदिर का निर्माण हो। बाधाओं को समाप्त करने की दिशा में सरकार को प्रयास करना चाहिए। वर्तमान में कारसेवकपुरम् में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां चल रही हैं, जैसे ही बाधाएं समाप्त होंगी, मंदिर निर्माण प्रारंभ हो जाएगा। आरक्षण के विषय में उन्होंने बताया कि बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर ने जिस उद्देश्य के लिए आरक्षण की व्यवस्था की है, उस उद्देश्य की पूर्ति तक आरक्षण रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि आरक्षण प्राप्त करने वाले समाज को ही यह तय करना चाहिए कि उसे कब तक आरक्षण की आवश्यकता है?



ABVP has called for a huge rally in Kerala on Nov 11 to expose the communist brutality on activists of nationalist organizations in the state

ABVP demands justice for its activists being killed in Kerala just because they disagree with the ruling CPIM’s ideology


The CPI-M has been conducting cold blooded murders against its political opponents in Kerala especially at times when it is in power in the state. Several of our activists have been martyred fighting communist terror and our offices have been attacked time and again. This year, ABVP is gearing up for a major public protest against this.
 
The capital city of Kerala, Thiruvananthapuram will witness a major rally on November 11th against the CPI-M atrocities and is named ‘Chalo Kerala’ with more than 50,000 ABVP workers, leaders and members from across the country flocking to Thiruvananthapuram to take part in this historic march raising their voice against the human rights violation and bloody murders conducted by the CPI-M and their student body, SFI. Outside Kerala, in other states, the SFI and CPI-M speak of human rights violation and student rights but in Kerala the CPI-M and SFI do not allow their opponents to even work, leave alone freedom of expression and thoughts. They kill their political rivals in the most brutal fashion of barbarians like killing by hurling stones and boulders. We have seen this in Parumala Dewaswom Board College when three ABVP workers: Sujith ,Kim Karunakaran and PS Anu were killed by hurling stones against them while they were trying to escape the brutal thrashing by SFI, CPM, CITU and DYFI workers by jumping into river Pampa. However on the tragic day of September 17th 1996 the students were not even allowed to raise their heads in Pampa river as boulders and stones were hurled at them in vengeance from the banks of the river and they succumbed to death. This action which can never be accepted in a democratic society. This is however the Communist style of work: brutal and savage.
 
The case of the elected Chairman of Guruvayur Sreekrishna college, Sanoop is a classic example of how intolerant CPI-M and its student wing SFI is. There was an undeclared rule made by the dictatorial SFI in the College that only the flag post and flag of SFI should be seen and nomination papers were not allowed to be filed by other student organizations in College elections, except that of SFI. One week after Sanoop joined college he faced severe thrashing following him wearing Rakshasutram. However, Sanoop did not back out and contested elections and got elected as Chairman of Guruvayur Sreekrishna College with a margin of 24 votes. It was a major shock for the SFI in their bastion. SFI decided to take its revenge when he was appearing for the university exams on 28th February 2008. That day, Sanoop was brutally attacked by a group of SFI goons and his left eye was completely injured following beating with iron rods on his head and both his legs and arms were broken with multiple fractures in his legs and arms. Sanoop lost his left eye forever. The CPI-M has done of the cruelest murders in world history. In 1999, they barged into an Upper Primary classroom of Mokeri East UP school in Panur, Kannur district and lynched Yuva Morcha state vice president K.T.Jayakrishnan Master who was teaching children. Such killing of a teacher in front of his students in a classroom is unheard of.
 
As the leftists are holding an ideology which has been rejected across the world, they are trying to save their last bastions with whatever means they can and these cold blooded murders and killings seems to be their last ploy for survival or rather existence. When they cannot fight an ideological battle, they are resisting to this physical battle with people who don’t agree to their ideology.
 
Recently, we saw a Communist leader who was arrested for a case relating to attempt murder of BJP workers putting the official cap of the Sub Inspector of Police and then posted his selfie and uploading in social media. Political power seems to have taken to the head of the Communists. Hundreds of people have succumbed to the killer knifes of the Communists in Kerala. In Kerala, more than 250 nationalist activists have been killed by the CPIM goons. In Kannur district alone more than more than 82 activists of organizations related to RSS have been butchered by CPI-M goons.
 
Several ministers of the Pinarayi Vijayan cabinet including the Chief Minister are accused in murder cases. The CPI-M state secretary Kodiyeri Balakrishnan is also a murder accused. So, right after this government was formed, attacks have increased manifold. In this scenario, it is important that nationalist students from all over the country stand in solidarity with the nationalist students of Kerala who are fighting communist terror on a daily basis. God’s own country Kerala, which is known for its natural beauty as well as hard working people, needs to be saved from this murderous spree of the communist brigade. Only through strong public movement can this communist culture of autocracy, violence, intimidation and murders be curbed and for that all democratically oriented citizens must join together to raise voice against communists in Kerala.



The Sangh work is growing continuously. There was an increase of about 550 shakas than last year. At present there are more than 34000 daily shakas and more than 15000 weekly milans. In 49,493 places through daily shaka and weekly milan Sangh work is going on. Along with this, 1600 shakas and 1700 weekly milans has also increased, said Shri Dattatreya Hosabale at ABKM press conference, Bhopal. There is a considerable participation of youth in nation building work. Youth are joining RSS through ‘Join RSS’, tech savvy, seva activities. The number of youth joining RSS has increased by 48% in 2016 and 52% in 2017 compared to that of 2015. He further informed that Sangh swayamsevaks are working in village developme t, family planning and social harmony. With the efforts of Sangh volunteers, there have been significant changes in about 450 villages. RSS believes that a strong and prosperous family reflects the nation. Concerned about this idea, the Sangh volunteers began using family awareness in Karnataka 15 years ago. Today this experiment is being run across the country, whose positive results are getting. In order to understand the importance of family awareness, everyone should read a book of Dr. APJ Abdul Kalam, who is based on communicating with him and on Jain Saint Acharya Mahapragna on the subject of family awareness. This book has good guidance on family values ​​and nation building. The meet will review Sangh action work and Sangh Shiksha Varg.

He said that the enlightenment of Sarsanghchalak on Vijaya Dashmi reflects the policy of the Sangh. The Sangha has organized a discussion on various topics in the enlightenment between intellectuals at around 20 places in the country. The enlightened class has also expressed consensus and support for the views expressed by the Sarsanghchalak about various subjects. Mr. Hosbale said that everyone should be firm on their opinion, but there should be a healthy dialogue among the society. Regarding the attacks on the workers of the union, he said that the number of murderous attacks on RSS workers in Kerala, West Bengal, Punjab and Karnataka has increased. Attacks on Sangh workers demonstrate the ideological defeat of the attackers. In order to save the existence of a particular ideology, its workers are attacking volunteers of the Sangh.

Inauguration of exhibition 'Dharohar': Inauguration of 'Dharohar', an exhibition focused on the life philosophy of the great men, was inaugurated by Shri Suresh Jai Soni at 8:15 pm on Thursday. The exhibition depicts the life philosophy of Padmabhushan Kushok Bakul Rinpoche. This is his birth centenary year. He did important work for the spread of education and social reform in Jammu and Kashmir. In addition to this, the life philosophy of sister-in-law Nivedita was also displayed in the celebration of 350th birth anniversary of Guru Gobind Singh and 150th birth anniversary. Pictures were also displayed in connection with the founder of the RSS, Dr. Keshav Baliram Hedgewar. 
 
जुड़ रहे हैं युवा, तेजी से बढ़ रहा है संघकार्य - दत्तात्रेय होसबाले
भोपाल, 12 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कार्य लगातार बढ़ रहा है। पिछले वर्ष संघ की शाखा के स्थान में लगभग 550 की वृद्धि हुई है। वर्तमान में 34 हजार से अधिक स्थानों पर प्रतिदिन शाखा और 15 हजार से अधिक स्थानों पर साप्ताहिक मिलन संचालित हो रहे हैं। अर्थात् लगभग 49 हजार 493 स्थानों पर शाखा और मिलन के माध्यम से समाज में संघकार्य चल रहा है। इसके साथ ही 1600 शाखाओं और 1700 साप्ताहिक मिलन की संख्या में भी वृद्धि हुई है। सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने भोपाल स्थित शारदा विहार में संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के औपचारिक शुभारंभ के बाद पत्रकारों को यह जानकारी दी। गुरु गोविंद सिंह सभागार में भारत माता की प्रतिमा पर पुष्पार्चन कर संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत और सरकार्यवाह श्री सुरेश भैयाजी जोशी ने कार्यकारी मंडल की बैठक का शुभारंभ किया। इस अवसर पर देशभर से आए लगभग 350 संघ के कार्यकर्ता बैठक में उपस्थित हैं। बैठक में 11 क्षेत्रों एवं 42 प्रांतों के पदाधिकारी शामिल हुए हैं। अखिल भारतीय पदाधिकारी, क्षेत्रों एवं प्रांतों के संघचालक,कार्यवाह, प्रचारक आगामी तीन दिन में संघ की तीन वर्ष की कार्य योजना, कार्य विस्तार और दृढ़ीकरण पर विचार-मंथन करेंगे।
सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने बताया कि समाज में संघ कार्य बढ़ा है। संघ कार्य के विस्तार में युवाओं की बड़ी भूमिका है। संघ का एक प्रकल्प है ज्वाइन आरएसएस, इसके माध्यम से बड़ी संख्या में टेक्नोसेवी युवा संघ से जुड़ रहे हैं। ज्वाइन आरएसएस के माध्यम से जुड़ने वाले युवाओं की संख्या में 2015 की तुलना में 2016 में 48 प्रतिशत और 2017 में 52 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह सभी आंकड़े जनवरी से जून तक के हैं। इनमें 20 से 35 आयु वर्ग की संख्या अधिक है। उन्होंने बताया कि संघ ग्राम विकास, कुटुम्ब प्रबोधन और सामाजिक समरसता जैसी गतिविधियां संचालित कर रहा है। संघ के कार्यकर्ताओं के प्रयास से लगभग 450 गाँवों में उल्लेखनीय बदलाव आया है। श्री होसबाले ने बताया कि संघ मानता है कि परिवार समृद्ध और सुदृढ़ होंगे तो राष्ट्र भी समर्थ बनेगा। इस विचार को लेकर संघ के कार्यकर्ताओं ने 15 वर्ष पूर्व कर्नाटक में कुटुम्ब प्रबोधन का प्रयोग प्रारंभ किया। आज यह प्रयोग पूरे देश में चलाया जा रहा है, जिसके सकारात्मक परिणाम प्राप्त हो रहे हैं। कुटुम्ब प्रबोधन का महत्त्व समझने के लिए सबको डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की एक पुस्तक पढ़नी चाहिए, जो कुटुम्ब प्रबोधन के विषय पर उनके और जैन संत आचार्य महाप्रज्ञ के साथ संवाद पर आधारित है। इस पुस्तक में पारिवारिक मूल्यों और राष्ट्र निर्माण पर अच्छा मार्गदर्शन है।
श्री होसबाले ने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की इस बैठक में संघ की आगामी तीन वर्ष की कार्ययोजना तैयार की जाएगी। कार्यकारी मंडल की रचना तीन वर्ष के लिए होती है। मार्च-2018 में यह तीन वर्ष पूरे हो रहे हैं। इसलिए कार्यकारी मंडल की रचना के संबंध में भी विचार किया जाएगा, जिसे मार्च-2018 में होने वाली प्रतिनिधि सभा की बैठक में अंतिम स्वरूप दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बैठक में संघ के कार्य विस्तार,वर्तमान में चल रहे कार्यों का वृत्त एवं कार्यों की उपलब्धि का वृत्त प्रस्तुत किया जाएगा। पिछले छह माह के कार्य की समीक्षा होगी। बैठक में संघ शिक्षा वर्ग (कार्यकर्ता प्रशिक्षण वर्ग) के संबंध में भी चर्चा होगी।
सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने बताया कि मध्यप्रदेश में संघ का कार्य प्रारंभ से ही अच्छा है। मध्यप्रदेश ने संघ को अनेक प्रामाणिक कार्यकर्ता दिए हैं। लम्बे समय के बाद अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक भोपाल में हो रही है। उन्होंने कहा कि विजयादशमी पर सरसंघचालक का उद्बोधन संघ की नीति को दर्शाता है। संघ ने देश के लगभग 20 स्थानों पर बुद्धिजीवियों के बीच उद्बोधन में आए विभिन्न विषयों पर चर्चा का आयोजन किया है। सरसंघचालक ने विभिन्न विषयों को लेकर जो अभिप्राय प्रकट किया,उसके प्रति प्रबुद्ध वर्ग ने भी सहमति एवं समर्थन जताया है। श्री होसबाले ने कहा कि सबको अपने मत को लेकर दृढ़ रहना चाहिए, परंतु समाज के बीच स्वस्थ संवाद होना चाहिए। संघ के कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमलों के संबंध में उन्होंने बताया कि केरल, पश्चिम बंगाल, पंजाब और कर्नाटक सहित कुछ अन्य स्थानों पर संघ के कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमलों की संख्या बढ़ी है। संघ के कार्यकर्ताओं पर हमले हमलावरों की वैचारिक पराजय का प्रदर्शन करते हैं। एक विशेष विचारधारा का अस्तित्व बचाने के लिए हताशा में उसके कार्यकर्ता संघ के स्वयंसेवकों पर हमले कर रहे हैं।
प्रदर्शनी 'धरोहर' का उद्घाटन : महापुरुषों के जीवन दर्शन पर केंद्रित प्रदर्शनी 'धरोहर' का उद्घाटन गुरुवार प्रात: 8:15 बजे सह सरकार्यवाह श्री सुरेश जी सोनी ने किया। प्रदर्शनी में पद्मभूषण कुशोक बकुल रिनपोछे के जीवन दर्शन को दिखाया गया है। यह उनका जन्मशताब्दी वर्ष है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में शिक्षा के प्रसार और समाज सुधार के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया। इसके साथ ही 350वीं जयंती के उपलक्ष्य में गुरु गोविंद सिंह और150वीं जयंती के उपलक्ष्य में भगिनी निवेदिता के जीवन दर्शन को भी प्रदर्शित किया गया है। संघ के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार के संबंध में भी चित्र प्रदर्शित किए गए l

Friday, October 13, 2017



RSS Sarsanghachalak Mohan Ji's letter


திரு ராமகோபாலன்ஜியின் 91வது பிறந்தநாள் கொண்டாட்ட விழா காமராஜர் அரங்கத்தில் 5 மணியளவில் துவங்கியது.

தமிழ்நாட்டு பாரம்பரிய நடனம் வந்தவர்களை வரவேற்றது. அரங்கிற்குள் நுழையும் போது விநாயகர் தரிசனம்.

91 பெண்கள் ஆரத்தி ஏந்தி வரவேற்க மங்கள இசையுடன் நிகழ்ச்சி துவங்கியது. பின்னர் வீரமணி அவர்களின் இசை நிகழ்ச்சி. தொடர்ந்து கடம் வித்வான் ஸ்ரீ. விக்கு விநாயக்ராம் அவர்களின் கடம் என நிகழ்ச்சி களை கட்டியது.அதன் பின்னர் பெண் குழந்தைகளோடு புஷ்பாஞ்சலி பரதநாட்டிய நிகழ்ச்சி..

விழா ஏற்பாடுகள் சிறந்த முறையில் செய்யப்பட்டு இருந்தன . மேடையில் இருந்த எல் சி டி திரையில் இந்து முன்னணியின் சாதனைகள்,கோபாலன் ஜியின் வாழ்க்கை பயணம், வீரத்துறவி பற்றிய பிரமுகர்கள் பேட்டி போன்றவை தொடர்ந்து ஒளிபரப்பப்பட்டது சிறப்பாக இருந்தது.. வின் டிவி குழுவினர் நேரலையில் அருமையாக ஒளிபரப்பினர்..

பல்வேறு கோவில்களில் இருந்து ப்ரசாதங்களும் மரியாதைகளும் வந்து சேர்ந்தபடி இருந்தன.. பல்வேறு இந்து அமைப்பினை சேர்ந்த பிரமுகர்கள் தொடர்ச்சியாக வந்த வண்ணம் இருந்ததும் அதை நிகழ்ச்சி தொகுப்பாளர் மேடையில் இடை இடையே குறிப்பிட்டு வரவேற்றதும் பாராட்டுதலுக்குரியது

கலைநிகழ்ச்சிகளுக்கு பின்னர் திருமதி. தேச மங்கையர்க்கரசி அவர்களின் ஹிந்து சமயம் குறித்து பேசினார். தன் உரையின் போது இந்து மதம் நமக்கு வழிபாடு முறைக்கான சுதந்திரத்தை வழங்கி உள்ளது. அந்த சுதந்திரத்தை முறையாக பயன் படுத்தி கொள்ளவேண்டும் என்றார். திரு ராமகோபாலன்ஜி நாத்திக பிரச்சாரம் கோலோச்சிய காலத்தில் 80களிலேயே தைரியமாக வீரத்துறவியால் ஆரம்பிக்கப்பட்ட இயக்கம் இந்து முன்னணி என்றார்

தொடர்ந்து வீரத்துறவி இராம.கோபாலன் ஜி மேடைக்கு வந்தார். அரங்கமே எழுந்து நின்று கரகோஷத்துடன் தங்கள் மரியாதையையும் மகிழ்ச்சியையும் வெளிப்படுத்தியது. வீரத்துறவி மேடைக்கு வந்ததும் திருவான்மியூர் வேத பி பாடசாலையை சேர்ந்த திரு நீலகண்ட கனபாடிகள் குழு வேத கோஷம் முழங்க ஆசீர்வாதம் செய்தனர்

தொடர்ந்து நிகழ்ச்சியில் கலைவிருந்து அளித்த கலைஞர்களுக்கு பொன்னாடை போர்த்தி கவுரவிக்கப்பட்டது. இந்து முன்னணி மாநில நிர்வாகிகள், மத்திய அமைச்சர் திரு பொன்னார்,, நீதியரசர் திரு வள்ளிநாயகம் ராமகிருஷ்ணா மடம் துறவி பூஜனிய விமூர்த்தானந்தர், வேலூர் வி ஐ டி துணைவேந்தர் திரு செல்வம், பா ஜ மாநில தலைவர் டாக்டர் தமிழிசை திரு இல நடராசன் ஆர் எஸ் எஸ் திரு இல கணேசன் திரைப்பட ஐ யக்குனர் திரு கஸ்தூரி ராஜா திரு அமர் பிரதாப் ரெட்டி ஆகியோர் மேடையில் வரவேற்கப்பட்டனர்

அனைவரும் மேடையில் அமர்ந்தபின் தலைவர்கள் வாழ்த்துரை துவங்கியது.திரு பக்தன் ஜி வரவேற்புரை வழங்கினார். வரவேற்ப்புரையில் கோபாலன் ஜி சீர்காழியில் பிறந்தார். அங்கே பிறந்த சம்பந்தர் சைவத்திற்க்காக சுற்று பயணம் மேற்கொண்டார். அங்கே பிறந்த திருமங்கையாழ்வார் வைணவத்திறகாக சுற்றுப்பயணம் மேற்கொண்டார் .அந்த மமண்ணில் பிறந்த வீரத்துறவியோ இந்து மதத்திற்க்காக இன்றளவும் பயணிக்கிறார் என்று குறிப்பிட்டார்.

ஆர் எஸ் எஸ் சர்சங்கசாலக் திரு மோகன் பகவத் அனுப்பிய வாழ்த்து மடல் மேடையில் வாசிக்கப்பட்டது. கடுமையான ஒழுக்கம் ,சிந்தனை செயலின் தூய்மை ஆகியவற்றை கடைப்பிடிப்பவர் திரு கோபாலன்ஜி என்று கடிதத்தில் வாழ்த்தி இருந்தார்

பூஜனீய விமூர்த்தானந்தர் பேசுகையில் பாரத தேசத்தின் லட்சியத்தின அடிப்படையானதொண்டும் துறவும் இவையே வீரத்துறவியின் வாழ்க்கை முறை என்று பாராட்டினார். இரவு எவ்வளவு நேரம் கண் விழித்தாலும் அதிகாலை மணிக்கு எழுந்து 1008முறை காயத்ரி மந்த்ர உச்சாடனம் செய்வதே இவரின் மன உறுதிக்கு காரணம் என்றார். விவேகானந்தர் கேட்ட 100 இளைஞர்களில் முதல் இளைஞர் திரு ராமகோபாலன்ஜி என்று சிலாகித்து பேசினார்.

மத்திய அமைச்சர் திரு பொன்னார் பேசுகையில் 8௦களில் திரு ராமகோபாலன் ஜி அவர்களுக்கு உதவியாளராக அவரோடு பயணம் செய்த நினைவுகளை குறிப்பிட்டு பேசினார் .

குமுதம் ஜோதிடம் புகழ் திரு ஏ எம் ராஜகோபாலன் பேசுகையில் சிருங்கேரி பீடம் பூஜனீய வித்யாரண்யர்யருக்கு பிறகு நமக்கு கிடைத்த வீரத்துறவி திரு ராமகோபாலன்ஜி என்று கூறினார்

திரு அமர்ப்பிரதாப் ரெட்டி பேசுகையில் இந்துக்களுக்கு யாரும் ஸ் சத்தியத்தையும் அஹிம்சையையும் பற்றி யாரும் பாடம் நடத்த தேவை இல்லை. இப்போது இந்துக்களுக்கு தேவை சத்திய பராக்கிரமம்தான் என்று கோபாலன்ஜி கூறுவதை பின்பற்ற வேண்டும் ஏன்றார்

பா ஜ மாநிலத்தலைவர் திருமதி தமிழிசை பேசுகையில் இப்பேற்பட்ட மஹானுக்கு அவர் வாழ்நாளிலேயே தமிழகத்தில் காவி ஆட்சி பீடம் ஏற்க செய்வதுதான் சிறந்த கைம்மாறாக இருக்க முடியும் என்று உரைத்தார்

இயக்குனர் கஸ்தூரி ராஜா பாம்புக்கு நடுங்கும் மக்கள் இ ருக்கும் இக்காலத்தில் பாமுக்கே நடுங்கா வீரம் இருப்பதால்தான் அவர் வீரத்துறவி என்று பேசினார்

வி ஐ டி துணைவேந்தர் திரு செல்வம் பேசுகையில் கோபாலன் ஜியின் வது பிறந்த நாள் விழா வேலூர் கோட்டையில் நடைபெற்றதை ன் இணைவு கூர்ந்தார். வேலூர் மக்கள் ஜலகண்டேஸ்வரர் கோவிலை மறுபடி ஸ் தப்பித்த ராமகோபாலன்ஜிக்கு கடமை பட்டவர்கள் ஏ ன்று நன்றி கூறினார்

இறுதியாக திரு கோபாலன் ஜி தன ஏற்புரையில் எனக்கு பிறகு யார் வருவார்கள் என்ற கேள்விக்கே இடமில்லை. நான் போனால் எனக்கு பின்னால் பேர் வர 100பேர் இருக்கிறார்கள் என்று கூறினார்

Thursday, October 12, 2017



RSS All India Executive Council Meet of Rashtriya Swayamsevak Sangh begins at Sharda Vihar Awasiya Vidyayala Bhopal today. In the meeting, the expansion of Sangh work, exchanging the experience, achievement of any work in the state will be shared/presented in the meet. Action plan for the next three years will also be discussed, said Dr. Manmohan Vaidya, RSS Akhil Bharatha Prachar Pramuk at the press conference on October 11. Shri Narendra Singh Thakur, RSS Akhil Bharatha Sah Prachar Pramuk and Shri Ashok Agarwal, Prant Karyawah were present. State Presidents, State Organizers, State Secretaries of RSS – around 300 from 42 prants will be attending the Executive Council Meet. Earlier in the meeting of the Executive Board, the officers of various organizations were also involved.The meeting of officials of various organizations has been held in Vrindavan. RSS National bearers of organizations like Vanavasi Kalyan Ashram, Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad, Vishwa Hindu Parishad, Kisan Sangh, Vidya Bharati and BJP will be attending this meet. In this meet, only action plan of Sangh activities will be discussed. Also the work done in the last six months will be evaluated and the achievements will be presented. In the past year, the work of the RSS has increased rapidly. At present, the shakas are operating at almost 50 thousand places. In Sangh, the election of Sarkaryavah is done every three years. The term of the present General Secretary is being completed in March 2018. With this vision, the next three year plan will be considered in the meeting. In response to a question, he said that on the anniversary of Dr Mohan Bhagwat, the Sarsanghchalak, on VijayaDashami, there has been discussion among intellectuals in 20 places. The Sangh interacts with the enlightened class from time to time. The Sangh wants that other organizations and individuals come in the field of social organization and person building. In yet another question on the recent Rahul Gandhi’s remarks on RSS, Dr.Vaidya said, “Deliberately concocted baseless reports appeared in some media that RSS will consider entry of women in shakhas (reportedly). RSS works with men only in Shakas and through them we connect with their families. Shakha work among women is being conducted by Rashtra Sevika Samiti. In all programs and campaign in society, women also are participating. Women create an atmosphere of co-operation in families to support RSS.” He further said that RSS by its constitution is not a political party for Congress to compare with. They should compete with BJP which is political.



Saturday, September 30, 2017




ஆர்.எஸ்.எஸ். அகில பாரதத் தலைவர் டாக்டர் மோகன் பாகவத் நாகபுரியில் விஜயதசமி (30.9.2017) அன்று ஆற்றிய பேருரை
மங்களகரமான விஜயதசமித் திருநாளைக் கொண்டாட நாம் இங்கே கூடியிருக்கிறோம். இந்த ஆண்டு பத்மபூஷண் குஷக் பகுலா ரிம்போச்  அவர்களின் பிறந்த நூற்றாண்டு. இதுவே சுவாமி விவேகானந்தரின் சிகாகோ சொற்பொழிவின் 125வது ஆண்டும் சகோதரி நிவேதிதையின் 150வது பிறந்த ஆண்டும்கூட..




 

Rashtriya Swayamsevak Sangh

Summary of the address of Parampujya Sarsanghchalak Dr. Mohanji Bhagwat on the occasion of Sri Vijayadashami – on Saturday 30th September 2017.




We have assembled here to celebrate the auspicious occasion of this year’s Vijayadashami. This year is the birth centenary year of Venerable Padmabhushan His Eminence Kushok Bakula Rinpoche. This year is also the 125th anniversary of Swami Vivekananda’s historic Chicago speech and 150th birth anniversary of his renowned disciple Bhagini Nivedita.


The Buddhists of entire Himalayan region consider His Eminence Kushok Bakula Renpoche as the incarnation of Bakul Arhat, one of the Sixteen Arhats of Thathagat Buddha. He has been the most revered Lama of Ladakh in recent times. He played a crucial role in spread of education, social reforms, eradication of social evils and awakening of national consciousness in the Ladakh region. In 1947 when Pakistan army attacked Jammu and Kashmir in the disguise of Kabaili tribes, with his inspiration youth from Ladakh formed the Nubra Brigade and did not allow the aggressors to cross Skardu. His remarkable contribution as a member of Jammu and Kashmir Legislative Assembly, as a minister in the State Government and as a member of Lok Sabha was always with national perspective. He was the Ambassador of Bharat to Mongolia for 10 long years. During his tenure in Mongolia, his contribution to the successful efforts of the local population to revive the age old Buddhist tradition, after the end of 80 years of Communist rule, was outstanding. For this, he is still being revered in Mongolia. In 2001, he was conferred with the Mongolian Civilian Award “Polar Star”. He is revered and exemplary for all of us because of his spiritual wealth, unwavering national commitment and incessant selfless work in the public interest. Acharya Bakul manifested the same national vision of Bharat towards global humanity through his personal and social conduct which Swami Vivekananda had declared in his Chicago speech.

Saturday, September 16, 2017


Two day Seva Sangamam showcasing the service activities of voluntary organizations of Sevabharathi was inaugurated at Nalli Kuppusami Vivekanandan Vidyalaya Chennai today.

Saturday, September 9, 2017

Press statement of Shri Kashmiri Lal, All India Organiser of Swadeshi Jagran Manch issued during his press conference on September 7, 2017 in New Delhi.
 

New Delhi, September 7, 2017: China is responding to India’s principle of Panchsheel by adopting the policy of ‘panchshool,’ which is taking on India by crippling our economic, environment, employment and humanity fabric. To make people aware of China’s nefarious designs, the Swadeshi Jagran Manch (SJM) has launched Rashtriya-Swadeshi-Suraksha Abhiyan from January 12, 2017. 
 
Under this campaign over one crore people have given their undertaking in writings to boycott Chinese goods. In this regard, a memorandum was given to the Prime Minister at 500 districts between August 9 and 10 though District Magistrates. A number of protest marches, dharnas, rallies, public meetings and burning effigies of Chinese goods took place during this period. As many as 8 lakh copies of books and 3 crore handbills were also distributed in 10 languages during this period.

It is important to note that Rashtriya-Swadeshi-Suraksha Abhiyan has got the support of people from different walks of life including Baba Ramdev, artistes, senior functionaries of RSS, Governors, members of Parliament and state Assemblies, leading figures from industrial and labour organisations. Our efforts have resulted in the Central government imposing anti-dumping duty on a number of Chinese goods including 18 per cent on the import of steel from China.

SJM would like to like to highlight the fact that the unhindered import of Chinese goods is causing a huge damage to Indian economy in more ways than one. Small scale units are getting closed. Job opportunities are shrinking. China’s contribution to India’s annual trade loss is US $ 52 billion out of US $ 118 billion on account of 190 countries. China’s share in world’s manufacturing market has gone up to 22 per cent, while that of India is only 2.1 per cent.

It is equally important to note that China is earning a trade profit of Rs 4 lakh crore per annum from India. If all other Chinese trades are included, China’s total trade with India will come to Rs 6.5 lakh crore and if we calculate the net profit at the rate of 12 per cent, the China is earning at least Rs 72,000 crore net profit from India. Still China is disturbing India on all global platforms—from blocking India’s entry into NSG to Dokalam to Azhar Masood to other border issues.

SJM’s Rashtriya-Swadeshi-Suraksha Abhiyan would conclude on October 29, 2017 at Ram Lila Ground in New Delhi in the form a huge rally. A large number of important people from different walks of life will attend the rally. We hope that this rally would give a new direction to India’s economic policies and will also help us chart out our future course of action.

Wednesday, September 6, 2017






Chennai Sandesh

September 6, 2017

Separatist outfits in state under Centre’s Radar

Last week, Tamilnadu witnessed over a dozen Tamil separatist, extremist, Jihadi, Naxal groups as well as fringe political parties pursuing anti – India, anti – Modi, anti – Hindu agenda as they jumped into action protesting against NEET (National Eligibility and Entrance Test) made compulsory for MBBS aspirants. For them NEET was only a stick to beat pan – India concepts like one country – one test.

Tuesday, September 5, 2017

RSS Karnataka expressed deep condolences and strongly condemned the murder of Journalist Gauri Lankesh. RSS demands Impartial Police enquiry on the murder.
V Nagaraj
Kshetreeya Sanghachalak

West Bengal Government headed by Chief Minister Mamta Banerjee cancelled an event which is scheduled to be held on October 3, in which Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) Sarsanghchalak Shri Mohan Bhagwat scheduled to take part at Mahajati Sadan. This is not the first time that such a move was taken. Earlier also the state (West Bengal) government had done it. We condemn this move," Jishnu Basu, RSS Secretary in the state, alleged. 
 
RSS Akhila Bharata Prachar Pramuk Dr. Manmohan Vaidya strongly condemned the lop-sided view of Chief Minister Mamata Banerjee. "To take vengeance on RSS, Mamata cancelled event of Sister Nivedita Mission Trust, which is working among poor & destitute women. Mamata's knee-jerk responses are to appease #Jihadi elements who have infiltrated the state,upon which she built her political base" Dr.Vaidya

 
RSS inspired Laghu Udyog Bharati (LUB) Tamilnadu a tiny, small and medium manufacturing enterprises association organized an event on topic being ‘Global expectation on quality; An auto component perspective’ on August 31 in Chennai. LUB has always endeavored to further the cause of SME sector India in several ways: making representation to Government on policy matter concerning small industries, knowledge sharing, inputs for policy making and giving collective voice to small manufacturers. 
 

Dr.Ravichandran, former CEO of TVS Lucas and a well-known personality in auto-component industry spoke on the occasion and emphasized on the fact that to remain competitive focus on “Zero defect and Zero effect”. Zero defect increases productivity and Zero effect ensures no damage is caused to environment. He also stressed the need for manufacturers to continuously innovate. He further stressed that innovation need not be expensive R&D activity. It can be simple idea giving greater value to customer.

Dr. Ravichandran advised manufacturers that many retired professional who have experience in quality are available. And this talent pool should be utilized. 
 

President Shri Hariharan, Vice President Shri Suresh Kumar and other office bearers of LUB were present. Around 100 people participated in the event.

The talk was followed by Rakshabandhan. Shri Ramakrishna Prasad Sah Prant Karyavah (UTN) spoke on the event and the participants tied Rakhi with each other.