Saturday, April 20, 2013

vsk chennai sandesh (Hindi)



चेन्नई संदॆश
९--२०१३

बिशप के हर अपशब्द पर प्रेसवालों ने उठाई आपत्ती

ऐप्रिल १६ को नीलगिरि जिले का ऊट्टी शहर में जिलादीश कार्यालय के अन्दर हुए एक संवाददाता सम्मेलन में, जिलाधिकारी और एस.पी के होते हुए , तमिलनाडु अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष बिशप एम. प्रकाश ने कहा – हिन्दु आतंकवादी चर्च निर्माण न होने देते हैं. सुनकर संवाददाताओं को झटका लगा और वे बिशप के द्वनिमुद्रित वक्तव्य को तत्काल उनके सामने सुनाये और बोले, यदी इस को प्रसारित करें तो गंभीर प्रतिक्रिया होगी.  अपनी भूल को मानते हुए बिशप ने हिन्दु आतंकवादी के स्थान पर हिन्दु कट्टरपंथी शब्द का उपयोग की. आगे उनहोंने कहा, सब जगह गणेश मंदिर खडे होते वक्त चर्च या मस्जिद निर्माण कटिन होता जा रहा है और जिलादीश लोग तथा एस.पी लोग का सहयोग चाहिये.  इस पर भी आपत्ती उठाकर संवाददाताओं ने उनको बता दी कि जिलादीश और एस.पी को  कानून – व्यवस्था बनाये रखने हेतु अनुमति न देने का अधिकार है. अब बिशप को नम्रता पूर्वक बताना पडा कि सब जिले के जिलादीश और एस.पी को आयोग सहयोग करेगा. चर्च या मस्जिद न आने देनेवाले सब जगह रेसिडेंट्स असोसियेशन के ही लोग हैं, तो क्या बिशप प्रकाश उन सब को हिन्दु कट्टरपंथी मानते हैं? – यह प्रश्न अनुत्तर रह जाता है. 

तिरुनेलवेली में २०० लोग हिन्दु बने

तिरुनेलवेली शहर में ऐप्रिल १० को एक परावर्तन कार्यक्रम में २०० मतांतरित लोगों ने हिन्दु धर्म स्वीकार की और हर एक को हिन्दु नाम दिया गया. कार्यक्रम का आयोजन विश्व हिन्दु परिषद ने की. इन हिन्दु नामों को गेज़ेट में प्रकाशित करवाने का दायित्व वि हि प का है, बोले परिषद के कार्यकर्ता गोपालरत्नम्‍. हिन्दु अधिवक्ता मुन्नणी के कार्यकर्ता भी उपस्थित थे. 
 


 पुलिस में कुछ तत्व ऐसे भी

अपने धर्म प्रचार के नाम क्रिस्तियन लोग आम जगहों पर पर्चे बांटते है. ऐसे ही एक पास्टर आटोचालक सेल्व प्रभु के हाथ एक पर्चा देने कि कोशिश की चेन्नई, पल्लिकरणई के ए.जी चर्च का पास्टर. प्रभु ने उसे लेने से इनकार कर दी. वाद विवाद हुआ, तुरंत प्रभु उस स्थान से हटे. लेकिन बाद में उनको पुलिस स्टेशन में पूछ्ताच के नाम पर खूब पीटा गाया. बताया जाता है कि सब इंस्पेक्टर क्रिस्टियन होने से यह घटित हुआ. थाने के ठीक सामने चर्च के लोगों ने भी उनको पीटा. लेकिन झूटी कैस थोपा गया उस बेचारे पर. हिन्दु मुन्नणी के कार्यकर्ता प्रभु को मदद की. इस से असिस्टंट कमिशनर ने अपने विभाग के कुछ आदमियों का गैरकानूनी हलचल को रोकी. प्रभु को रिलीस किया गया.  

No comments:

Post a Comment